Diwali calendar 2023: आज, हम आपको धनतेरस से भाई दूज तक का विस्तृत कार्यक्रम और पूजा का शुभ समय प्रदान करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप पूरी तरह से सूचित हैं और किसी भी संभावित भ्रम से मुक्त हैं।

Whatsapp Group
Whatsapp Channel
Telegram channel

Diwali festival 2023: हिंदू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक दिवाली हर साल कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाई जाती है। रोशनी के त्योहार के रूप में जाना जाने वाला दिवाली पूरे देश में बड़े उत्साह और भव्यता के साथ मनाया जाता है। इस दिन भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दिवाली का त्योहार 5 दिनों तक चलता है, जो धनतेरस से शुरू होता है और भाई दूज के साथ समाप्त होता है। इसलिए, हम आपको धनतेरस से भाई दूज की तारीखों और पूजा करने के शुभ समय के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करना चाहते हैं, ताकि आपको कोई भ्रम न हो।

2023 का दिवाली कैलेंडर | Diwali calendar 2023

2023 में धनतेरस कब है? | Dhanteras 2023 Date

इस वर्ष धनतेरस 10 नवंबर 2023, शुक्रवार को मनाया जाएगा। इस दिन पूजा का शुभ समय 6:20 से 8:19 के बीच है।

2023 में धनतेरस की शॉपिंग का शुभ मुहूर्त

धनतेरस पर खरीदारी का शुभ समय दोपहर 2:35 बजे से शाम 6:35 बजे तक है। इस शुभ दिन पर सोना, चांदी, कार और संपत्ति खरीदना लाभदायक माना जाता है।

2023 में छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी कब है?

नरक चतुर्दशी, जिसे छोटी दिवाली भी कहा जाता है, 11 नवंबर को दोपहर 1:57 बजे से 12 नवंबर को दोपहर 2:43 बजे तक मनाई जाएगी। इस शुभ अवसर के दौरान, लोग काली मां, हनुमान जी और यमदेव जैसे देवताओं की पूजा करते हैं।

2023 में दिवाली कब है ?

इस वर्ष दिवाली 12 नवंबर को मनाई जाएगी, क्योंकि कार्तिक माह की अमावस्या तिथि उस दिन दोपहर 2:43 बजे शुरू होती है और 13 नवंबर को दोपहर 2:55 बजे समाप्त होती है।

दीपावली के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त | Diwali Puja Shubh Muhurat 2023

2023 में दिवाली पूजा का शुभ समय शाम 5.40 बजे से 7.36 बजे तक है, इस दौरान आप गणेश और लक्ष्मी की पूजा कर सकते हैं।

2023 में गोवर्धन पूजा कब है?

इस वर्ष, गोवर्धन 14 नवंबर को होगी। पूजा का शुभ समय सुबह 6.15 बजे से 8.36 बजे तक निर्धारित है.

2023 में भाई दूज कब है?

15 नवंबर को मनाए जाने वाले त्योहार भाई दूज का शुभ समय 14 नवंबर को दोपहर 2:36 बजे से शुरू होकर 15 नवंबर को दोपहर 1:47 बजे तक रहेगा।

Read Also- यह भी जानें

Next articleMargashirsha Amavasya 2023: जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व
नमस्कार, मेरा नाम Krishna है, और मैं जयपुर, राजस्थान से हूँ। मैं B.A. की डिग्री है और मेरा शौक है धार्मिक गानों और पूजा-पाठ से जुड़े पोस्ट लिखने का। वेबसाइट पर चालीसा, भजन, आरती, व्रत, त्योहार, जयंती, और उत्स से जुड़े पोस्ट करते हैं। मेरा उद्देश्य धार्मिक ज्ञान को Shared करना और भगवान की भक्ति में लोगों की मदद करना है। धार्मिक संगीत और पूजा मेरे लिए खुशी और शांति का स्रोत हैं। और हमारे Social Media Platform पर हमसे जुड़ सकते हैं। धन्यवाद!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here